background preloader

Drvinay

Facebook Twitter

Dr. Vinay Bajrangi

I, Vinay Bajrangi, double doctorate in astrology , expert in Parashari, Bhrigu, KP, South Nadi, Vastu. I am offering complete astrological solutions for all human life problems for over 2 decades. My methods are based on Indian Ancient Jyotish reading & correcting your flawed past deeds, work with you infusing positivity with your Karma Korrection with small, simple remedies than depending only on heavy rituals & remedial measures.

SUN IN the 1st HOUSE: Its positive and negative effects - Astrologer Dr. Vinay Bajrangi. Sun is the strongest planet and its placement in any of the houses can impact a person’s life. When it comes to its impact based on its placement in the first house, and then it can be both positive and negative. People who have Sun in their first house are filled with vitality and positive energy. They possess radiant charisma. Those having the Sun in the 1st house of their horoscope will be blessed with great physical appearance and persona but, when the same sun is in a bad state, it can have an adverse effect. The Sun impacts a person’s life positively, but adversely, it can give make them have a bad temper, makes a person stubborn.

Such individuals may face monetary challenges, like if they have any pending dues from government bodies, the payment might get delayed. Yes, that’s an absolute truth. The Sun provides strength to the individual but at the same time, it can put you in the state of embarrassment. SUN IN 3RD HOUSE : HOW IT IMPACT LIFE - Vedic Astrologer Dr. Vinay Bajrangi. When it is about Sun's position in the various house then its impact may range from positive to negative, but the presence of the Sun in the 3rd house of the kundali brings a lot of blessings, than negatives. It is considered as one of the best positions. Sun in the 3rd house brings success in whichever path the person chooses. It grants them growth in politics, gives them entry into public services at medium or high level. Apart from growth in career, the Sun in the 3rd house gives the person political clout and influence. Such people are highly influential.

They have the wisdom and the courage to make the best use of their power and position. Ill-effects of the Sun in the 3rd House- Such people may not receive the same support in return, they may face exploitation, backbiting and blackmailing. Professional life of people with the Sun in the 3rd house- Personality traits of the natives having the Sun in the 3rd house- Sun in the 5th House- All that you need to know - Astrologer Dr. Vinay Bajrangi. SUN IN 7TH HOUSE - Astrologer Dr. Vinay Bajrangi.

Placement of Sun in 7th house affects the behavior and personal life of a person. Having Sun in this house is not a good indication for marital life. 7th house of the kundali is for life partner, married life, financial status, career, foreign trip etc. It means if the Sun is present in this house it will affect a person accordingly. So, let's explore how does Sun influences all these aspects of a person’s life when it sits in the 7th house. Well, since the 7th house represents married life, having Sun in this house will affect the person’s married life adversely.

It means that they will enjoy a troubled married life. The natives of Sun in the 7th house get the spouse who is filled with a lot of ego and anger. Personality and behavior of people having Sun in 7th house- Individuals having Sun in 7th house have high self-respect. Career of people with Sun in 7th house- Since 7th house represents career, having Sun in this house affect the professional life of the person.

Sun in 9th house:- Effects on Personal Life - Astrologer Dr. Vinay Bajrangi. We will be discussing here the effects of Sun in 9th house as per North Indian Astrology. According to South Indian and Western Astro, the case is quite different. There, Sun in 9th house of native determines everything related to the father which is not correct. This 9th house belongs to Father and Sun is the Karak. Hence, the relation of the Native with his father, inheritance issues, the health of Father are determined by this. The malefic Sun in this position may cause some serious harms in form of losses to father- both financial and worldly possessions.

It also determines the general relationship of native with grandparents & other relations, mostly paternal side. A chance of illicit relationship within the family can be seen where the native may get involved unintentionally. Sun in 9th house stays somewhat neutral except for government employees, people in active politics or people at the helm of management of social and religious institutes. Sun in a 9th house: Positive Effect. मकर राशि वार्षिक राशिफल 2019 - वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी मकर राशि वार्षिक राशिफल 2019 - वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी कुम्भ राशि वार्षिक राशिफल 2019 - ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी व्यवसाय : व्यापारिक क्षेत्र की दृष्टि से यह वर्ष अत्यंत शुभ है | व्यापारी वर्ग इस वर्ष अधिक से अधिक निवेश कर सकते हैं क्योंकि इस वर्ष असीमित लाभ होने की सम्भावना है | धैर्य रखें और कार्यरत रहें सफलता अवश्य हासिल होगी | विद्यार्थियों के लिए भी ये वर्ष अत्यंत शुभ है वह विद्यार्थी जो पिछले वर्ष असफल रहे थे इस वर्ष वह मेहनत और प्रयास करके सफलता प्राप्त कर सकते हैं | विद्यार्थियों के मनोबल में वृद्धि होगी जिससे वह शिक्षा के क्षेत्र में उन्नति करेंगे | धन – संपत्ति : जातक इस वर्ष शेयर बाजार आदि में अधिक से अधिक निवेश कर सकते हैं क्योंकि इस वर्ष हानि की सम्भावना न के बराबर ही है आपकी जो जमा पूँजी है, धन – संपत्ति है उसमे वृद्धि होगी उसमे से व्यय बहुत कम मात्रा में होगा और जो भी व्यय होगा व धार्मिक और मांगलिक कार्यों में ही होगा | इस वर्ष घर में कोई विवाह आदि संपन्न हो सकता है या संतान का जन्म हो सकता है धन संपत्ति में वृद्धि की दृष्टि से यह वर्ष अति शुभ है | घर- परिवार – समाज : स्वास्थ्य : कैरियर एवं प्रतियोगी परीक्षाएं : यात्रा प्रवास – तबादला : धर्म – कार्य -ग्रह शांति : Share this post: Save.

मीन राशि वार्षिक राशिफल 2019 - ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी व्यवसाय: व्यापारी वर्ग अपनी योजनाओं को बनाते समय विशेष सावधानी बरतें | नये आयामों को जोड़ने का विचार इस वर्ष स्थगित कर दें क्योंकि इस वर्ष कारोबार को अच्छी स्थिति में चलाये रखने में बाधा आ सकती है | अपने बिज़नेस पार्टनर से अच्छा व्यवहार रखें तथा व्यापार में कोई निर्णय लेने से पूर्व उसकी राय अवश्य लें जिससे आपका व्यापार अच्छी तरह से चलता रहे | इस वर्ष आपकी राशि पर शनि की ढैया चल रही है शनि की दृष्टि के कारण इस वर्ष लाभ की अपेक्षा हानि की सम्भावना अधिक दिखाई दे रही है यदि आप कहीं नौकरी कर रहे हैं तो विशेष सावधानी बरतें , अनावश्यक वाद-विवादों से बचें अन्यथा आप अपने वरिष्ठ अधिकारिओं की नजरों में गलत साबित हो सकते हैं और नौकरी भी जा सकती है | धन – संपत्ति : इस वर्ष किसी नए निवेश में व्यय न करें | आर्थिक दृष्टि से यह वर्ष कष्टदायक स्थिति बना सकता है | जो जमापूंजी आपने बचा के रखी है वह व्यय होने की सम्भावना है | घर – परिवार- समाज : स्वास्थ्य : करियर एवं प्रतियोगी परीक्षाएं : यात्रा प्रवास – तबादला : धर्म – कार्य – ग्रह शांति : Share this post: Save.

तुला राशि वार्षिक राशिफल 2019 -वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी व्यवसाय : व्यवसाय के लिए यह वर्ष मध्यम है इस वर्ष आपको कार्य के लिए किसी अलग स्थान पर भेजा जा सकता है जिससे आपका मन अशांत रहेगा और उस स्थान पर व्यापार से आपको कोई विशेष लाभ प्राप्त नहीं होगा लेकिन आप अपने कार्य से संतुष्ट रहेंगे | जिससे लोगों की आपके प्रति ईर्ष्या की भावना बढ़ेगी | आपको अपने शत्रुओं से सावधान रहने की आवश्यकता है वह आपको किसी षणयंत्र का शिकार बना सकते हैं | विपरीत परिस्थितियों में भी धैर्य और चतुराई से काम लेने के कारण आपके मान सम्मान में वृद्धि होगी | धन – संपत्ति : लाभ अर्जित करने के लिए इस वर्ष आपको अथक प्रयास करने होंगे |इस वर्ष निवेश आपको बहुत सोच-समझ कर ही करना चाहिए जहां पर आपको लाभ की सम्भावना पूर्णतया: लगे वहीं निवेश करें | अपने अनियंत्रित व्यय से खुद को असमर्थ महसूस करेंगे | घर – परिवार – समाज : आपको अपने क्रोध पर नियंत्रण रखने की आवश्यकता होगी | आपके क्रोधपूर्ण व्यवहार के कारण पूर्वार्द्ध में घर का वातावरण अशांत रहेगा लेकिन आपको जीवनसाथी का भरपूर सहयोग प्राप्त होगा जिससे आप घर के वातावरण को शांत और प्रसन्नचित करने में सफल रहेंगे | स्वास्थ्य : Share this post: Save.

वृश्चिक राशि वार्षिक राशिफल 2019 - ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी व्यवसाय: व्यापार और नौकरी की दृष्टि से यह वर्ष सामान्य ही रहेगा | इस राशि पर शनि की साढ़े साती का प्रभाव है व्यापारीजनों को कहीं भी निवेश करने से पहले सतर्कता की आवश्यकता होगी जिससे लाभ के स्थान पर हानि का सामना न करना पड़े | नौकरी कर रहे जातकों के के लिए भी किसी विशेष लाभ की अनुभूति नहीं है जहाँ कार्य कर रहे है वहीं कार्यरत रहेंगे वरिष्ठ अधिकारिओं से वैचारिक मतभेद रह सकता है जिसके कारण मन असंतुष्ट रहेगा | व्यापार और नौकरी की दृष्टि से यह वर्ष सामान्य ही रहेगा | इस राशि पर शनि की साढ़े साती का प्रभाव है व्यापारीजनों को कहीं भी निवेश करने से पहले सतर्कता की आवश्यकता होगी जिससे लाभ के स्थान पर हानि का सामना न करना पड़े | नौकरी कर रहे जातकों के के लिए भी किसी विशेष लाभ की अनुभूति नहीं है जहाँ कार्य कर रहे है वहीं कार्यरत रहेंगे वरिष्ठ अधिकारिओं से वैचारिक मतभेद रह सकता है जिसके कारण मन असंतुष्ट रहेगा | धन – संपत्ति: घर– समाज –परिवार: स्वास्थ्य : कैरियर एवं प्रतियोगी परीक्षाएं : यात्रा प्रवास – तबादला : धर्म – कार्य – ग्रह शांति : Share this post: Save.

पितृ दोष कारण, प्रभाव और उपचार - वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी पितृ दोष को ‘‘पूर्वजों के पाप” के रूप में वर्णित किया जा सकता है। आप किसी भी ज्योतिषी के पास जाते हैं और हर मौके से, आपको सबसे पहले यही बताया जाता है कि आपके कुंडली में पितृ दोष है। पितृ दोष दिमाग पर बहुत भारी भूमिका निभाते हैं और हम बिना ये समझे कि पितृ दोष क्या है, हम पितृ दोष के उपाय या पितृ दोष उपचार की खोज करने लगते हैं। नकारात्मक दोष हमेशा बुरे नहीं होते हैं। हिंदुस्तान टाइम्स में पढ़ें अनुष्ठानों और उपचारों का आंख बंद करके पालन न करें। अब मैं पितृ दोष के बारे में सब कुछ बताता हूँ, मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूँ कि निम्न कारणों से यह दोष नहीं है जैसा कि सामान्य रूप से चित्रित किया जाता है : इसकी शक्ति कुंडली दर कुंडली में भिन्न होती है।

आइये शुरू करें: उत्तरकालमृत श्लोक में वर्णित सूर्य के महत्वपूर्ण संकेत 20-1/ 2 से 22-1/2 हैं: 1. यह सूर्य का दोष है और उसे महत्वपूर्ण परिणाम देने से रोकना पितृ दोष है। पितृ दोष के कारण – कुंडली में दोष निम्नलिखित ग्रह या उनके ज्योतिषीय लक्षण पितृ दोष को प्रेरित करने के लिए सूर्य को प्रेरित कर सकते हैं: 1.राहू या इसकी राशि अर्थात कन्या आपको क्या करना चाहिएः Save. सिर्फ अनुष्ठान करने से नहीं होते भगवान प्रसन्न – वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी भारत आध्यात्मिकता का पालन करने वाला देश है। लेकिन क्या केवल अनुष्ठान करने का मतलब आध्यात्मिकता है। जैसा कि हम आम तौर पर जानते हैं या हमें सुझाव दिया जाता है, लेकिन अंतहीन अनुष्ठानों को अंधाधुंध करके, विशेष रूप से भगवान को प्रसन्न नहीं कर सकते हैं। भारतीयों के लिए आध्यात्मिकता विरासत नहीं बल्कि एक सतत परंपरा है। सदियों से इस परंपरा ने हमारे धर्म को दर्शन और आध्यात्मिकता पर विभिन्न विचार विकसित करने में मदद की है।

इनमें से कुछ न्याय, वैशेशिका, योग और वेदांत हैं और इसके लिए दुनिया हिंदू धर्म को उत्सुकता से देखती है। भारत की आध्यात्मिक हवा कर्म- धर्म की सुगंध फैला रही है। आडम्बर अनुष्ठान के प्रभाव को पीछे छोड़ देता है कई लोग आंख बंद करके अनुष्ठान का पालन करते हैं और किसी कारण से ही पूजा करते हैं: कुछ लोग मानते हैं की उनके पूजा न करने से भगवान नाराज हो जायेंगे |हम में से कई लोग ईश्वर ने जो कुछ उन्हें दिया है उसका कुछ अंश सर्वशक्तिमान को रिश्वत के रूप में देने का प्रयास करते हैं। अनुष्ठान और उपचार – इतना अधिक क्यों निर्भर हैं सभी अनुष्ठानों को करना. कर्म सुधार के बिना अनुष्ठान मदद नहीं करते हैं

ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी द्वारा जानिए कैसे देखें पितृ ऋण. पितृ ऋण से तातपर्य जातक पर अपने पूर्वजों के बुरे कर्मों का प्रभाव होने से है | यदि जातक की जन्म कुंडली में स्वयं की राशि के अधिपति ग्रह का शत्रु बैठा हो और स्वयं की राशि का ग्रह भी स्वयं भी अशुभ हो तो जातक पर पितृ ऋण होता है | पितृ ऋण जन्मकुंडली से देखा जाता है | जिनकी कुंडली में पितृऋण होता है उनकी आर्थिक स्थिति कमजोर होती है योग्य होने के बाद भी बार – बार विफलता का सामना करना पड़ता है तथा तरक्की में रुकावटें आती हैं पितृ ऋण होने पर जातक को दोनों ग्रहों का उपह करना चाहिए पहले तो स्वयं कि राशि के अधिपति का दूसरा उसकी स्वयं की राशि में उपस्थित शत्रु ग्रह का | कभी भी एक साथ दोनों ग्रहों के उपाय नहीं करने चाहिए ऐसा करने पर कोई भी किया गया उपाय फलित नहीं होता | पहले स्वयं की राशि के अधिपति ग्रह का उपाय करें तथा उसके बीच कुछ समय के अंतर के पश्चात् दूसरे शत्रु ग्रह का उपाय करना चाहिए | पितृ ऋण का कोई भी उपाय ४०/४३ सप्ताह तक करना आवश्यक होता है | पितृ ऋण की स्थिति : ” घर नौवें हो ग्रह कोई बैठा , बुध बैठा जड़ साथी हो | पितृ ऋण उस घर से होगा , असर ग्रह सब निष्फल हो || पितृ ऋण की दूसरी स्थिति – Save.

ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी द्वारा जानिए जीवन में सफलता कैसे प्राप्त करें प्रत्येक व्यक्ति जीवन में सफल होना चाहता है लेकिन सबसे प्रासंगिक ( मुख्य ) सवाल कि जीवन में सफलता कैसे प्राप्त करें | जब कुछ लोग असफल होते हैं और कुछ सफल तो दोनों के बीच पहचानने योग्य कुछ कारक ( तथ्य ) होना चाहिए | हम जानते हैं कि संघर्ष कठिन है और जीत अधिक गौरवशाली है | हांलाकि यह भी सत्य है कि जीवन में अंतत: संघर्ष करने से ही जीवन में सफलता प्राप्त होती है | कुछ छोटे अंतदृष्टि जीवन में सफल होने के बारे में जानना निश्चित ही आपकी सफलता की यात्रा में उल्लेखनीय परिवर्तन ला सकती है | तो जानें सफलता के लिए ज्योतिष आपकी मदद कैसे कर सकता है | भारतीय ज्योतिष में किसी भी भविष्यवाणी से पहले इस मूल सिद्धांत का अवश्य ध्यान रखना चाहिए & भारतीय ज्योतिष में पिछले कर्मों को जानना जरुरी है | “डॉ विनय बजरंगी की ऐसी कई और कहानियां सार्वजनिक डोमेन में भी उपलब्ध हैं।

“ “भारतीय ज्योतिष की एक पूरी तरह से अलग अवधारणा को सुनने के लिए यहाँ क्लिक कीजिए |” बहुत से ज्योतिषीय कारण है जिनकी वजह से एक व्यक्ति लगातार संघर्षों के बाद भी असफल हो जाता है और जो उनमे जो सबसे सबसे महत्वपूर्ण बिंदु हैं उनकी नीचे गणना की है : विवाह के लिए जीवनसाथी की खोज यहां समाप्त होती है : ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी विवाह के लिए अन्य चीजों के आलावा दो चीज़ें अति आवश्यक होती हैं , एक संगत जीवनसाथी और दूसरा विवाह का उचित समय | ( सही समय पर विवाह होना ) | विवाह की तलाश में संगत जीवनसाथी की खोज मकान को घर में बदलती है | जब एक बार व्यक्ति कोई नौकरी या व्यवसाय करने लगता है तो विवाह के लिए सही जीवनसाथी की खोज तीव्रता से होने लगती है | और क्यों न हो विवाह एक सामान्य व्यक्ति के लिए उसके जीवन का सबसे रोमांचित प्रसंग है |और एक परिपूर्ण जीवनसाथी मिलना हमेशा के लिए जीवन को आशीर्वाद देता है।

हालांकि यहां एक और तथ्य आधुनिक समाज में है, जिससे यह सरल बात अधिक जटिल हो रही है। पुरुष प्रधान समाज के दिन चले गए हैं। महिलाएं आजाद हैं पढ़-लिखकर स्वयं निर्भर हो गयीं हैं और वह अब सोशल मीडिया पर जुड़कर अपनी अभिलाषाओं के अनुरूप जीवनसाथी ढूंढती है | सही जीवनसाथी न ढूंढ पाने के ज्ञात कारण मैं कई कहानियों में इन कारणों का गवाह हूं : सब कुछ अच्छा होने के बावजूद, सही मैच प्राप्त करना मुश्किल है। ये कुछ स्पष्ट कारण हैं जो किसी व्यक्ति की खोज को सही जीवनसाथी के लिए प्रतिबंधित करते हैं और विवाह को रोकते हैं। विवाह के भाव से द्वि-स्थान. नकारात्मक विवाह के योग को विवाह योग में परिवर्तित करना : वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी

कोई विवाह से नकारने वाले योग या चार्ट किसी भी विवाह उम्मीदवार और परिवार को परेशान कर सकते हैं। लेकिन चिंता कि बात नहीं है , मैंने कई कुंडलियों में ऐसे योगों को देखा है जिन्हे अच्छे विवाह योग में परिवर्तित भी किया गया है | यह 16 फरवरी, 2016 की बात है जब एक युवा महिला बहुत विश्वास के साथ , योगिता (नाबदला हुआ नाम ) 11:10 बजे मेरे कार्यालय में आयीं। मैं आत्मविश्वास के साथ इन तिथियों और समय का जिक्र इसलिए कर रहा हूँ क्योंकि मेरे कार्यालय में सभी को समय और दिवस निर्धारण के बाद मुझसे मिला जाता है | और मेरे सहायक कर्मचारियों द्वारा नोट किया जाता है, क्योंकि चार्ट इन समयों और तिथियों के अनुसार भी बनते हैं, और जातक की समस्या का समाधान इसके अनुकूल करना पड़ता है | कुंडली में विवाह योग न होना मैंने उसकी कुंडली बनाई जो कि निम्न थी – कुंडली में विवाह के योग नहीं थे ऐसी परिस्थितिओं के विश्लेषण हेतु मेरे तरीके इन मुद्दों पर मेरी राय लेकिन योगिता के चार्ट में एक प्लस प्वाइंट था, लग्न (डी -1) और नवांशा चार्ट (डी-9) दोनों में उनके अधिपति भगवान बृहस्पति शक्तिशाली और प्रभावपूर्ण थे।

यहां कुछ नकारात्मक कारक हैं ज्योतिषी डॉ. विनय बजरंगी द्वारा जानिए कर्म सुधार के माध्यम से नकारात्मक दोषों को सकारात्मक योगों में बदलें | नकारात्मक दोष, विकृतियां, दोष किसी भी कुंडली में उपस्थित हो सकते हैं। हालांकि, किसी को भी इसके बारे में चिंता नहीं करना चाहिए। ज्योतिषीय अंतर्दृष्टि आपको इन नकारात्मक दोषों को सकारात्मक योगों में बदलने में मदद कर सकती है। जन्मकुंडली में नकारात्मक दोष जो आपको डराता है या परेशान करता है, वास्तव में आपका मित्र बन सकता है और आपको गंभीर परिस्थितियों से बाहर निकाल सकता है। इसके लिए सकारात्मक स्थिति प्राप्त करने के सही तरीकों को जानने की आवश्यकता है। अधिकांश लोगों को अविश्वास की वजह से ज्योतिष के प्रति गलत धारणा होती है | मैं आपको ज्योतिष में परिपक्व कुछ बुद्धिमत्ता का विचार करता हूँ जो आपके अंधविश्वास को समाप्त करने में आपकी मदद करेंगे | सिर्फ आप ही की कुंडली में नकारात्मक दोष नहीं होते अपितु यह लगभग प्रत्येक कुंडली में उपस्थित होते हैं | यदि आप यह सोच रहें हैं कि फिर वह लोग खुश कैसे हैं ?

उपर्युक्त सिद्धांतों से, हम पता चलता है कि कुंडली में उपस्थित दोषों या नकारात्मक योगों से छुटकारा पाने का सबसे अच्छा तरीका कर्म सुधार के माध्यम से है। नकारात्मक दोष वास्तव में योग भी हैं दरिद्र योग – ग्रहण योग. वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी द्वारा जानिए जीवन में अंतिम मिनट पर सफलता प्राप्त करने से क्यों चुकते हैं व्यावसायिक निर्णय – ज्योतिष सलाह कर सकती है प्रभावित : वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी पितृ दोष में राहु का संघर्ष : वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी केतु हो सकता है विनाशकारी अगर सावधानी न बरती तो - वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी द्वारा जानिए ज्योतिष और बुद्धि क्षमता पित्रु दोष – वेदों और पुराणों के अनुसार - हिंदू वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी हिंदू वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी द्वारा जानिए क्या करने आये हैं आप धरती पर ? ज्योतिष और कर्म सुधार के साथ कोर्ट केस का समाधान - वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी शिक्षा का महत्व एवं उच्च शिक्षा - वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी गजकेसरी, अमला, काहल और अन्य सकारात्मक योग - वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी जीवन के खेल को कैसे बदलते हैं चमत्कार - वैदिक ज्योतिषी डॉ विनय बजरंगी

Sun- Question and Answers - Vedic Astrologer Dr. Vinay Bajrangi. Rahu- Question and Answers - Vedic Astrologer Dr. Vinay Bajrangi. Mercury - Vedic Astrologer Dr. Vinay Bajrangi. Ketu - Vedic Astrologer Dr. Vinay Bajrangi. Pitru Paksha - Dr. Vinay Bajrangi. Pitru Dosha - Astrologer Dr. Vinay Bajrangi. Astrology solution love marriage or a arrange marriage - Astrologer Dr. Vinay Bajrangi. How is Varna Milan done - Dr. Vinay Bajrangi. What is the significance of Varna in Ashtakoot Milan? What’s the significance of Yoni Koot? What does Graha Maitri indicates- Hindu Vedic Astrologer Dr. Vinay Bajrangi. What’s the importance of Graha Maitri? How Gan Dosh (gaan) can be eliminated? When is Bhakoot Koot considered inauspicious- Hindu Vedic Astrologer Dr. vinay Bjarangi.

Festival related question- astrologer Dr. Vinay Bajrangi. Kundali creation. Navamsha and Navamsha Chakra. Can a horoscope be divided of a Mangal Dosha? Describe. ताकि नौकरी से बिजनेस में जाते हुए न लगे झटका What will happen if a Manglik girl marry a Non-Manglik boy? क्या आपका पद और वेतन हैं शादी का रोड़ा ? Hindu vedic astrologer Dr. Vinay Bajrangi ji's Astrology may not help greedy people. A MANGLIK MAY NOT NEED ANOTHER MANGLIK FOR MARRIAGE. VIVAH PARAMARSH BY HINDU VEDIC ASTROLOGER DR VINAY BAJRANGI. Lies Uncovered by Pt. Vinay Bajrangi. VEDIC ASTROLOGER DR VINAY BAJRANGI says re-write your fate , in HT CITY ON 11-02-2018.

POPULAR ASTROLOGER DR VINAY BAJRANGI APPEARS IN HINDUSTAN TIMES ON 24.12.2017. क्या आप स्वयं ही तो अपने विवाह को नहीं रोक रहे ? FAMOUS ASTROLOGER DR VINAY BAJRANGI APPEARS IN HINDUSTAN TIMES ON 18-03-2018. Stagnation in career & business is direct result of Low Resistance. DR VINAY BAJRANGI , FAMOUS ASTROLOGER APPEARS IN HINDUSTAN TIMES ON 08-04-2018. ASTROLOGER DR VINAY BAJRANGI, APPEARS IN HINDUSTAN TIMES ON 01-04-2018. Miracles in life due to Spark Plug in Horoscope are Game Changers. Astro Vastu Shastra Two Sciences in One-Astrologer Dr. Vinay Bajrnagi. Manglik Dosh & Its Effects On Married Life. Converting A No-Marriage Yoga Into Wedding by astrologer Dr. Vinay Bajrangi. ASTROLOGICAL REMEDY: HOW FAR THE GEMS FIT IN. THE STEP BY STEP GUIDE FOR CAREER BUILDING. Nine keys to Shani Ki Sade Sati by astroloer Dr.Vinay Bajrangi. मांगलिक का गैर- मांगलिक से विवाह ज्योतिषी डा. विनय बजरंगी द्वारा

Astrologer Master Dr. Vinay Bajrangi. The Forecast for Sagittarius Natives for the year 2018 by Dr.Vinay Bajrangi. Cancer natives horoscope by Dr. Vinay Bajrangi. What is Karma Korrection. Miracles in life due to Spark Plug in Horoscope are Game Changers. Is Shani Dangerous? - Vinay Bajrangi. Marriage needs perfect Spouse & right time.Then what stops it.

Muhurtha Importance - Dr. Vinay Bajrangi | Vedic Astrologer. Search For Life Partner Ends Here. 7 Important Factors of Naddi Vastu |Astrologically. Importance Of Shodasa vargas And Their Significations. Jupiter And Its Association With Different Planet As Per NADI. KARMA AND PLANETS IN NAVAGRAHA NADI. Meaning Of Zodiac And Its Elements: Astrologically. Period And Effects Of Sade Sati. बलिष्ट चंद्र तो बलिष्ट मन !! HOW THE CHILD WOULD BE by Vinay Bajrangi. Vastu Shastra has a new concept of Astro Vastu Shastra through Horoscope. पितरों से जुड़ा क़र्ज़ बनाता है कंगाल- Dr.Vinay Bajangi. Ketu destructs the life but Karma correction can transform it positive. पदवी मिलेगी यदि सूर्य होगा बली !! ऐसे होगा वेदों अनुसार पितृ दोष का अंत ! Vastu Without Site Visit. Rahu affected Pitra Dosha is not always harmful. It can bring Positive results also.

Understanding all about Pitra Dosha. Business Partnership does not suit all Why ? Learn Astrologically. Manglik Dosh & Its Effects On Married Life - Dr. Vinay Bajrangi Blog. Court Case Solutions with Astrology & Karma Correction. Gajkesri, Amala, Kahala, Adni & Other Positive Yogas. Why Do We Miss Last Minute Success In Life | Take Astrological Help. Converting A No-Marriage Yoga Into Marriage Yoga.